एसिड अटैक की शिकार गर्भवती महिला को नहीं मिला न्याय, अब SP से लगाई गुहार

जागरूक टाइम्स 390 Feb 6, 2020

चूरू. राजस्थान के चूरू जिले के सुजानगढ़ कस्बे में एसिड अटैक की शिकार गर्भवती महिला ने बुधवार को आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर एसपी से न्याय गुहार लगाई. लिव इन रिलेशन में रह रही इस महिला के एसिड अटैक में हुए जख्म तो भर रहे हैं लेकिन एक महीने से भी ज्यादा का समय बीत जाने के बावजूद आरोपी अभी भी पुलिस गिरफ्त से दूर हैं. एक तरफ आरोपी राजीनामा करने के लिए जान से मारने तक की धमकी दे रहे हैं वहीं दूसरी तरफ सुजानगढ़ पुलिस पर भी महिला ने कार्यवाही नहीं करने के आरोप लगाए हैं. सुजानगढ़ थाने और जांच अधिकारी से न्याय की आस में भटक रही नैना ने एसपी तेजस्वनी से इंसाफ की गुहार लगायी है. एसपी तेजस्वनी ने मामले की जांच कर कानूनी कार्यवाही का आश्वासन दिया है.

31 दिसंबर को हुआ एसिड हमला
जानकारी के मुताबिक नैना बावरिया, सुजानगढ़ के गौरीशंकर के साथ पिछले एक साल से लिव इन रिलेशन में रह रही है. नैना के परिवार वाले इसके खिलाफ हैं. गौरीशंकर की सांवरा सिद्ध नाम के व्यक्ति से पूरानी रंजिश है. इस रंजिश का फायदा उठाते हुए नैना के परिवार वालों ने सांवरा सिद्ध से हाथ मिला लिया और 31 दिसम्बर को लिव इन रिलेशन में रह रहे गौरीशंकर और नैना पर हमला कर दिया.

नैना की जुबानी एसिड अटैक की कहानी
नैना ने बताया कि 31 दिसम्बर की रात को जब वह लाडनू से सुजानगढ़ आ रही थी तो सांवरा सिद्ध ने 10-15 लोगों के साथ मिलकर हमला किया. सांवरा सिद्ध और राजू सिद्ध ने उसपर एसिड फैंका, राजू सिद्ध और बाबू जाट ने हमला किया. श्रवण बावरी ने उसके जबड़े को घुंसे मारे. वारदात के बाद सुजानगढं थाने में 9 नामजद लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ. रिपोर्ट में कहा गया है कि अन्य आरोपितों ने भी गर्भवती नैना पर एसिड फेंका और पेट पर लात घूंसे मारे. जब गौरीशंकर ने बीच बचाव किया, तब उसके साथ भी मारपीट की और तेजाब फेंका.


Leave a comment