ईरान से 275 भारतीय नागरिक जोधपुर पहुंचे

जागरूक टाइम्स 184 Mar 30, 2020

जोधपुर। कोरोना प्रभावित ईरान में फंसे 275 भारतीय नागरिकों को दिल्ली से लेकर दो विशेष विमान रविवार सवेरे जोधपुर पहुंचे। चार दिन पूर्व ईरान से 277 भारतीय नागरिकों को भी जोधपुर लाया गया था। सभी लोगों की एयरपोर्ट पर सेना के चिकित्सकों ने गहन जांच की। इन सभी को सैन्य क्षेत्र में सेना की तरफ से बनाए गए वेलनेस सेंटर में भेज दिया गया। इस तरह अब शहर में सेना के वेलनेस सेंटर में भारतीय नागरिकों की संख्या बढ़कर 552 हो गई है। इससे पूर्व जैसलमेर में 484 भारतीय नागरिकों को रखा जा रहा है। सेना का कहना है कि यहां आने वाले भारतीय नागरिकों में से अभी तक कोई भी कोरोना पॉजिटिव नहीं है। इसके बावजूद एहतियात के तौर पर सभी की नियमित जांच की जाएगी। इन सभी को 14 दिन यहां क्वारेंटाइन कर रखा जाएगा। ईरान कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित देशों में से एक है।

वहां काम करने वाले करीब 6000 भारतीय नागरिकों को वापस भारत लाने की विशेष मुहिम केन्द्र सरकार ने शुरू कर रखी है। इसके लिए भारतीय सेना ने जोधपुर, जैसलमेर व बाड़मेर में क्वारेंटाइन सेंटरों को विकसित कर रखा है। वेलनेस सेंटर के नाम से विकसित इन केन्द्रों में सेना ने सभी के लिए बेहतरीन सुविधाएं जुटा रखी हैं। बता दें कि भारतीय सेना की दक्षिणी कमान ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए ऑपरेशन नमस्ते शुरू किया है। कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल सीपी मोहंती ने बताया कि सभी फॉर्मेशन कमांडर और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना से निपटने के लिए सोशियल डिस्टेंसिंग सहित अन्य सुरक्षात्मक उपाय करने के निर्देश दिए गए हैं ताकि किसी भी तरह से संक्रमण को रोका जा सके। सेना की टुकडिय़ों की एक जगह से दूसरी जगह पर गैर जरूरी मूवमेंट भी बंद कर दी गई है। सेना एक्स सर्विसमैन और वीर नारियों के प्रति भी जिम्मेदार पूर्वक भूमिका निभा रही है।

विदेश से लौटे 300 लोगों को रखेंगे कोरेंटाइन सेंटर में
जोधपुर। कोरोना का फैलाव रोकने के लिए जिला प्रशासन ने शनिवार को पूरे शहर में सघन जांच अभियान चलाकर हाल ही विदेश यात्रा से लौटे करीब 300 लोगों की तलाश की और उन्हें शहर में बनाए विशेष कोरेंटाइन सेंटरों में ले जाया गया। विशेष रूप से 17 मार्च के पश्चात विदेश से आए लोगों पर फोकस किया गया। दिल्ली व मुंबई से विदेश से लौटे लोगों की सूची मंगाकर नाम व पासपोर्ट के आधार पर लोगों को तलाश किया गया। शहर में अब तक मिले 6 करोना पॉजिटिव पाए गए लोगों में से पांच विदेश से लौटे हैं, जबकि एक युवती विदेश से लौटे लोगों के संपर्क में रहने के कारण संक्रमित हुई।

शहर में कई लोग ऐसे हैं, जिन्होंने विदेश से लौटने के बावजूद प्रशासन को इसकी सूचना नहीं दी। विदेश से लौटे लोगों के कोरोना संक्रमित होने की स्थिति में इसके कम्यूनिटी में स्प्रेड होने की आशंका सबसे अधिक रहती है। इसे ध्यान में रख प्रशासन ने आज सुबह से एक के बाद एक कर लोगों को पुलिस की मदद से उठाना शुरू कर दिया। इन्हें एम्बुलेंस में बिठाकर कोरेंटाइन सेंटरों में भेजा जा रहा है। शहर के विभिन्न हिस्सों से इस प्रकार लोगों को उठाने के कारण शहर में एक बार हड़कंप मच गया। लोगों को लगा कि एम्बुलेंस में बैठाकर ले जाए जा रहे लोगों को कोरोना है। हालांकि प्रशासन ने स्पष्ट किया कि इनमें से फिलहाल कोई भी कोरोना संक्रमित नहीं है। एहतियात के तौर पर इन लोगों को कुछ दिन आइसोलेशन में रखा जाएगा।



Leave a comment