आएंगे चुनाव परिणाम, नेताओं की बढ़ी धड़कनें

जागरूक टाइम्स 557 May 21, 2019

17वीं लोकसभा गठन के लिए हुए चुनाव की मतगणना गुरुवार को होगी। इससे पहले सभी दलों के नेताओं की धड़कनें तेज हो गई हैं। इससे पहले मंगलवार को भाजपा, कांगे्रस सहित एनडीए, यूपीए व अन्य दलों ने बैठकें कीं। 21 दलों के विपक्षी नेताओं ने बैठक की और संभावित परिणामों पर सरकार बनाने की रणनीति बनाई। वहीं, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने एनडीए के सहयोगी दलों के नेताओं को डिनर पर आमंत्रित किया और सरकार बनाने पर चर्चा की।

हिम्मत न हारें कार्यकर्ता: प्रियंका
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे न्यूज चैनलों की ओर से प्रसारित एग्जिट पोल में एनडीए को बहुमत मिलने के अनुमान पर ध्यान दें। कार्यकर्ता स्ट्रॉन्ग रूम और मतगणना केंद्रों पर डटे रहें। कार्यकर्ताओं को जारी ऑडियो संदेश में प्रियंका ने कहा, आप लोग, अफवाहों और एग्जिट पोल से हिम्मत मत हारिए। ये अफवाहें आपका हौसला तोडऩे के लिए फैलाई जा रही हैं। इस बीच आपकी सावधानी और भी महत्वपूर्ण बन जाती है। स्ट्रॉन्ग रूम और मतगणना केंद्रों पर डटे रहिए और चौकन्ने रहिए। प्रियंका ने कहा, हमें पूरी उम्मीद है कि हमारी और आपकी मेहनत का फल मिलेगा।

एकजुट हो विपक्ष : ममता
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी चंद्रबाबू नायडू के स्वर में स्वर मिलाए थे। उन्होंने ट्वीट करके एग्जिट पोल को खारिज कर दिया है। ममता बनर्जी ने कहा, मैं एग्जिट पोल की गप पर यकीन नहीं करती। इस बकवास से हजारों ईवीएम से छेड़छाड़ या उन्हें बदलने की योजना बनाई जा रही है। मैं अपील करती हूं कि सभी विपक्षी दल एकजुट हों। हम साथ मिलकर लड़ाई लड़ेंगे।

भाजपा मुख्यालय में जश्न की तैयारी
एग्जिट पोल्स में एनडीए की वापसी के अनुमान जताए जाने के बाद सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस कार्यकर्ताओं का अलग-अलग रुख देखने को मिल रहा है। भाजपा मुख्यालय में जहां 23 मई को लेकर तैयारी चल रही है वहीं, कांग्रेस मुख्यालय में भले ही आम दिनों जैसा शोर नहीं दिख रहा लेकिन कार्यकर्ता बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रहे हैं। एग्जिट पोल्स के अनुमानों को देखते हुए भाजपा ने अपने मुख्यालय में लोकसभा चुनाव के नतीजों पर बड़े स्तर पर जश्न मनाने की तैयारी शुरू कर दी है।

कांग्रेस मुख्यालय में सन्नाटा
कांग्रेस मुख्यालय में शांति दिखी और कुछ कार्यकर्ताओं ने पीएम नरेंद्र मोदी की सत्ता में वापसी की संभावना को खारिज कर दिया। आम दिनों में रहने वाला शोरगुल सोमवार को पार्टी मुख्यालय से गायब था और पार्टी कार्यकर्ताओं ने कहा कि इसकी वजह एग्जिट पोल्स द्वारा तैयार किया गया झूठा माहौल है।

संघ भी सक्रिय, गडकरी से मिले भैयाजी
संघ के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने नागपुर में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात की। इस दौरान भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय भी थे। खबर है कि प्रधानमंत्री मोदी भी संघ प्रमुख मोहन भागवत से मुलाकात कर सकते हैं।

चुनाव आयोग ने कसी कमर
मतगणना स्थल पर इंटरनेट में वाई-फाई के इस्तेमाल पर रोक
चुनाव आयोग ने मंगलवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को कहा कि वह पोस्टल बैलेट और ईवीएम मतों की गणना एक साथ कर सकते हैं। ईवीएम की गिनती पूरी होने के बाद ही वीवीपीएट पर्ची की गिनती शुरू हो सकेगी। चुनाव आयोग इस बार मतगणना को लेकर विशेष ऐतिहात बरत रहा है। किसी भी तरह की गड़बड़ी को रोकने के लिए ईवीएम के वोट और वीवीपीएट वोटर वेरीफिकेशन पेपर ऑडिट ट्रेल की पॢचयों की गिनती के लिए अलग अलग टीमें होंगी। अधिकारियों के भी मतगणना वाले स्थान पर इंटरनेट में वाईफाई के इस्तेमाल पर रोक रहेगी। जैसा की पूर्व विदित है कि नतीजों में 8 से 12 घंटों की देरी हो सकती है। क्योंकि सबसे पहले पोस्टल बैलेट की गिनती होती क्योंकि इस बार पोस्टल बैलेट की संख्या में काफी इजाफा हो गया है। और इसकी जांच के दो चरण हैं। लिहाजा इसमें काफी समय लगने की संभावना को देखते हुए ईवीएम मतपत्रों की जांच के साथ ही पोस्टल बैलेट की गणना के लिए आदेशित किया है।

स्ट्रांग रूम में सुरक्षित हैं ईवीएम, 100 फीसदी मिलान नहीं होगा
100 फीसदी ईवीएम-वीवीपैट मिलान की मांग करने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है। एक एनजीओ ने ये मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट ने याचिका को बकवास करार देते हुए कहा कि एक ही मांग बार-बार नहीं सुन सकते, लोग अपनी सरकार चुनते हैं। सुप्रीम कोर्ट इसके आड़े नहीं आएगा। इसके पूर्व 21 विपक्षी पाॢटयों ने 50 प्रतिशत मिलान की मांग की थी। कांग्रेस सहित 21 पाॢटयों को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली थी। सुप्रीम कोर्ट ने 21 पाॢटयों की पुनॢवचार याचिका खारिज कर दी थी।

चौथे दिन मतगणना पर प्रश्नचिन्ह?
राहुल गांधी, चंद्रबाबू नायडू के चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल खड़े करने के बाद अब आयोग पर नया आरोप लग रहा है। सवाल उठ रहे हैं कि चुनाव आयोग ने 7 चरणों में मतदान कराया। अंतिम चरण का मतदान 19 मई को पूरा हो गया था। इसके बाद भी चुनाव आयोग ने 4 दिन बाद मतगणना करने का निर्णय क्यों किया। राजनीतिक हलकों में कहा जा रहा है कि अंतिम चरण के चुनाव में मध्य प्रदेश, हिमाचल, उत्तर प्रदेश, झारखंड, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल और बिहार के लोकसभा क्षेत्रों में चुनाव हुआ। यहां पर मतदान दल 19 तारीख की देर रात को लौट कर आ गए थे। 20 तारीख की सुबह तक सभी ईवीएम मशीनें स्ट्रांग रूम में जमा हो गई थी।
चुनाव आयोग 21 मई को मतगणना करा सकता था। किंतु उसने 23 मई का दिन क्यों चुना। इसको लेकर अब चुनाव आयोग पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है। उत्तर प्रदेश एवं अन्य राज्यों में ईवीएम मशीनों की चोरी छुपे आवाजाही के कई मामले, सामने आने के बाद, विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग की भूमिका पर सवाल खड़े कर दिए हैं। इसमें यह भी कहा जा रहा है, कि जानबूझकर 2 दिन का अतिरिक्त समय क्यों रखा गया।

मोदी के स्वागत में बाजार में जोश
200 अंक की तेजी के साथ 39,550 के स्तर पर
मोदी सरकार के दोबारा बनने के अनुमान पर भारतीय शेयर बाजार में रौनक बढ़ती जा रही है। सप्ताह के दूसरे कारोबारी दिन सेंसेक्स शुरुआती मिनटों में ही 200 अंक की तेजी के साथ 39,550 के स्तर पर आ गया। शेयर बाजार के इतिहास में यह पहली बार है जब सेंसेक्स ने इतनी बड़ी बढ़त दर्ज की है। इससे पहले सेंसेक्स 39,500 के नीचे ही रहा है। वहीं अगर निफ्टी की बात करें तो 52 अंक बढ़कर 11,880 के स्तर पर आ गया। निफ्टी का यह अब तक का उच्चतम स्तर है। मंगलवार को शुरुआती कारोबार में रुपया 69.74 प्रति डॉलर के भाव पर खुला. बीते सत्र में भी रुपया 69.74 प्रति डॉलर के स्तर पर बंद हुआ था। बता दें कि एग्जिट पोल में एनडीए सरकार के सत्ता में फिर लौटने के संकेत से सोमवार को रुपया 49 पैसे की भारी तेजी दर्ज की गई। यह दो माह की सबसे बड़ी तेजी है।

Leave a comment