मोदी सरकार का बजट गरीब, किसान, युवाओं की आकांक्षाओं को समर्पित: शाह

जागरूक टाइम्स 542 Feb 1, 2019

नई दिल्ली (ईएमएस)। राजग सरकार के कार्यकाल में अंतिम बजट को गरीब, किसान और युवाओं के सपनों एवं आकांक्षाओं को समर्पित बताते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि यह नए भारत के निर्माण को समर्पित मोदी सरकार के संकल्प का प्रतीक है। अमित शाह ने कहा, आज के बजट ने यह पुनः प्रमाणित किया है कि मोदी सरकार देश के गरीब, किसान और युवाओं के सपने एवं आकांक्षाओं को समर्पित सरकार है।

इस सर्वग्राही बजट के लिए मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं उनकी पूरी सरकार को बधाई देता हूँ। उन्होंने कहा कि यह फैसला किसान कि आय दो गुना करने के प्रयास में मील का पत्थर साबित होगी, इसके लिए वह भाजपा के करोड़ों कार्यकर्ताओं की ओर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का हृदय से अभिनंदन करते हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने दो हेक्टेयर से कम भूमि वाले गरीब किसानों के लिए ‘प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना’ को ऐतिहासिक पहल बताया जिसके अंतर्गत देश के करीब 12 करोड़ किसानों को मोदी सरकार द्वारा 75000 करोड़ रुपए के बजट से प्रति वर्ष 6000 रुपए दिया जाएगा। उन्होंने गौ माता का सनातन संस्कृति व भारतवर्ष से अटूट रिश्ता बताते हुए कहा कि मोदी सरकार द्वारा 750 करोड़ रुपए से इसके संरक्षण और संवर्धन के लिए ‘राष्ट्रीय कामधेनु आयोग’ एक अभूतपूर्व कदम है।

प्रधानमंत्री ‘श्रम योगी मानधन योजना , दशकों से विकास की मुख्यधारा से वंचित असंगठित क्षेत्र में कार्यरत देश के गरीब श्रमिकों के प्रति मोदी सरकार की संवेदनशीलता की परिचायक है। अमित शाह ने कहा कि इस योजना में सरकार और लाभार्थी की सहभागिता से करीब 10 करोड़ गरीब श्रमिकों को 60 वर्ष की आयु के बाद 3000 रुपए तक का मासिक पेंशन देने का निर्णय मोदी सरकार ने लिया है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना और माताओं को धुएं के अभिशाप से मुक्त करने वाली उज्ज्वला योजना के लक्ष्य को आठ करोड़ करना इसी का परिचायक है। शाह ने कहा कि देश की जीडीपी में अमूल्य योगदान देने वाले मछुवारा समुदाय के कल्याण के लिए केंद्र सरकार में मत्स्य पालन विभाग बनाए जाने के लिए वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति आभार व्यक्त करते हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड का लाभ मछुवारा समुदाय को देने से उन्हें बहुत लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि एक लाख गांवों को डिजिटल करने के निर्णय से गाँव और शहर की दूरियां कम होंगी और ग्रामीण क्षेत्र भी देश के विकास में बराबर की सहभागिता निभा सकेगा। अब गाँव भी न सिर्फ देश बल्कि वैश्विकस्तर के ज्ञान, विज्ञान और तकनीकी का लाभ ले सकेगा।


Leave a comment