नारी बनी चंद्रयान-2 की शक्ति, मिशन में 30 प्रतिशत महिलाओं का योगदान

जागरूक टाइम्स 743 Jul 22, 2019

नई दिल्ली । भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान की बड़ी कामयाबी चंद्रयान-2 के मिशन की कामयाबी के पीछे टीम में परियोजना निदेशक और मिशन निदेशक सहित करीब 30 प्रतिशत सदस्य महिलाएं हैं। मिशन चंद्रयान 2 में परियोजना निदेशक एम वनिता एक इलेक्ट्रानिक सिस्टम इंजीनियर हैं। वनिता प्रारंभ में इस ऐतिहासिक दायित्व को संभालने के लिए तैयार नहीं थीं लेकिन बाद में इसरो सेटेलाइट सेंटर डायरेक्टर एम अन्नादुरई के समझाने पर वह यह जिम्मेदारी लेने पर सहमत हुईं।
इसी तरह चंद्रयान मिशन निदेशक रितु करिधल इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरू से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त हैं।

इन दो महिला वैज्ञानिकों के अलावा इस ऐतिहासिक चंद्रयान-2 अभियान से जुड़े सदस्यों में करीब 30 प्रतिशत संख्या महिलाओं की है। बता दें कि चंद्रयान-2 सोमवार को 2 बजकर 43 मिनट पर लांच किया जाएगा। चंद्रयान-2 चांद के उस हिस्से पर उतरेगा जहां आज तक दुनिया को कोई यान नहीं जा पाया है। चंद्रयान-2 चांद की दक्षिणी सतह पर उतरेगा। यह वह अंधेरा हिस्सा है जहां उतरने का किसी देश ने साहस नहीं किया है। उल्लेखनीय है कि इसके पहले 2008 में चंद्रयान-1 और 2013 में मार्स ऑर्बिटर मिशन को अंजाम दिया गया था। यह भारत का तीसरा मिशन है। जियोसिंक्रोनस लांच व्हीकल मार्क-3 भारत में अबतक बना सबसे शक्तिशाली रॉकेट है, इस बाहुबली नाम दिया गया है। यह चंद्रयान-2 को चंद्रमा की कक्षा तक ले जाएगा।

पीएम मोदी ने दफ्तर में देखी चंद्रयान-२ की लॉन्चिंग, वैज्ञानिकों को दी बधाई

भारत के महत्वकांक्षी मून मिशन चंद्रयान- २ ने दोपहर २.४३ बजे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से उड़ान भरी और इसकी सफल लॉन्चिंग हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) को सफल लॉन्चिंग पर बधाई दी। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि भारत के लिए यह एक ऐतिहासिक क्षण है। चंद्रयान-२ के सफल प्रक्षेपण से आज पूरा देश गौरवान्वित है। भारत के लिए यह एक ऐतिहासिक क्षण है। चंद्रयान-२ के सफल प्रक्षेपण से आज पूरा देश गौरवान्वित है। मैंने थोड़ी देर पहले ही इसके लॉन्च में निरंतर तन-मन से जुटे रहे वैज्ञानिकों से बात की और उन्हें पूरे देश की ओर से बधाई दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर दो तस्वीरें साझा की, जिसमें वे चंद्रयान-२ की लॉन्चिंग को लाइव टीवी पर देख रहे हैं। उन्होंने लिखा कि यह विशेष क्षण हमारे गौरवशाली इतिहास में दर्ज हो जाएंगे! चंद्रयान-२ का प्रक्षेपण हमारे वैज्ञानिकों के साहस और १३० करोड़ भारतीयों के विज्ञान के नए स्तरों को निर्धारित करने के संकल्प को दर्शाता है। आज हर भारतीय को गर्व है!

पीएम मोदी ने लिखा चंद्रयान-२ अद्वितीय है क्योंकि यह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर उतरेगा और जहां अब तक कोई मिशन नहीं गया है। यह अध्ययन कर पता लगाएगा और वहां से नमूने लाएगा। यह मिशन चंद्रमा के बारे में नया जानकारी देगा। उन्होंने लिखा कि चंद्रयान-२ जैसे प्रयास हमारे होनहार युवाओं को विज्ञान, उच्च गुणवत्ता वाले अनुसंधान और नई खोज की ओर प्रोत्साहित करेंगे। चंद्रयान-२ की लॉन्चिंग के बाद प्रेस कांफ्रेंस करके इसरो के प्रमुख के सिवन ने कहा कि चंद्रयान-२ का प्रक्षेपण सफल रहा। यह ४८वें दिन चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। सिवन ने कहा कि वक्त रहते तकनीकी जांच की गई। उसके बाद इस ऐतिहासिक सफर पर चंद्रयान-२ को छोड़ा गया। सफल लॉन्चिंग के बाद जीएसएलवी-एमके तृतीय-एम१ से चंद्रयान-२ अलग होकर आगे की तरफ बढ़ रहा है। बारिश और घने बादलों के बीच चंद्रयान-२ की उड़ान को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे।



Leave a comment