पोंजी कंपनियों पर नजर रखने की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

जागरूक टाइम्स 508 Jul 26, 2019

नई दिल्ली (ईएमएस)। देश में शारदा चिटफंड और रोज वैली जैसी पोंजी कंपनियों पर नजर रख उन पर कार्रवाई के निर्देश देने वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के द्वारा शुक्रवार को खारिज की गई इस याचिका में इन घोटालों का हवाला देते हुए कहा गया था कि हजारों निवेशकों की मेहनत की कमाई को ठगा गया है। याचिकाकर्ता ने नियमित रूप से उन कंपनियों के कामकाज की जांच करने के लिए एक फ्रॉडस्टर सेल बनाने की दिशा के लिए आग्रह किया था। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया है।

बात दे कि रोज वैली चिटफंड घोटाले में रोज वैली ग्रुप ने लोगों को 2 स्कीमों में फंसाकर 10 हजार करोड़ का चूना लगाया था। रोज वैली समूह के एमडी शिवमय दत्ता ही घोटाले के मास्टरमाइंड है। कंपनी ने आशीर्वाद और हॉलिडे मेंबरशिप योजनाओं से लोगों को ज्यादा रिटर्न देने का भरोसा दिलाया। कंपनी के इस झांसे में करीब 1 लाख लोग आ गए और इन योजनाओं में निवेश किया। बताया जाता है कि रोज वैली घोटाले में शारदा घोटाले से 4 गुना ज्यादा धनराशि की ठगी की गई। पश्चिम बंगाल की चिटफंड कंपनी शारदा चिटफंड ने लालच दिया कि सागौन से जुड़े बॉन्ड्स में 25 साल में निवेश की गई रकम 34 गुना बढ़ जाएगी। इसके साथ ही आलू कारोबार में निवेश कर 15 महीनों में निवेश की रकम दोगुना करने का सपना आम लोगों को दिखाया गया। इस दौरान 10 लाख लोगों ने बहकावे में आकर निवेश किया। लेकिन जब लाखों लोगों की राशि लौटाने की बारी आई तब, कंपनी हजारों करोड़ लेकर फरार हो गई।


Leave a comment